एक खूबसूरत ख्वाब

October 1, 2017 ajay jha 0
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Post Views: 182   रात देर तक जागे थे! सुबह औंधी आँखों से एक ख़ूबसूरत सपना देखे! देखे के आप हमको जगा रही हो! “उठिए […]

उसकी झलक

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Post Views: 104 उफ़्फ़फ़ आज कितने दिनों बाद उसकी झलक देखी जैसे बादलों से चाँद झांक रहा हो हाथ में भले ही उसने मोबाइल पकड़ा […]

tum ana jarur

तुम आना जरूर

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Post Views: 133 सुनो मुझे तुमसे कोई गिला सिकवा नहीं वो दौर था ग़लतफ़हमी के, नाराजगी के जो गुजर गया, जाने दो मैं तुम्हे खोना […]

A letter from her…

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Post Views: 792   तुम हाँ तुम अक्स मेरे लिए तड़पते हो न मत तड़पा करो, मत उदास होया करो मुझे अच्छा नहीं लगता मुझे […]

मन्ना – एक अधूरा पन्ना

September 21, 2017 Manohar 0
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Post Views: 636 मन्ना – हमारी ही तरह का एक लड़का। बात उन दिनों की है जब उसने किशोरावस्था में कदम ही रखा था। उसका […]

शब्द और तुम

September 20, 2017 ajay jha 2
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

रात के 12 बज चुके हैं! चारो तरफ ख़ामोशी पसरी है और आज फिर तुम्हे लिखने की सोच रहा हूँ पर आज शब्द साथ नहीं दे रहा है, शायद पागल हो गया है शब्द! शब्द मुझसे भाग रहा है । शब्द कभी घर के बीच, दिवाल से सटी पुरानी आलमारी के पीछे छिप जाता है तो कभी कूलर के पीछे। शब्द कभी पलंग के पीछे छिप जाता है तो कभी कोने में पड़ी छोटी सी मंदिर में, भगवान् के मूरत के पीछे। मैं उसे पकड़ने की जी तोड़ कोशिश में लगा हूँ। …